Savidhan sabha ke sathayi adhyaksh kon the

Savidhan sabha ke sathayi adhyaksh kon the

Savidhan sabha ke sathayi adhyaksh kon the | Savidhan sabha sathayi adhyaksh kon the | Savidha sabha ke sathayi adhyaksh kon the | Savidhan sabh ke sathayi adhyaksh kon the | Savidhan sabha k sathayi adhyaksh kon the | Savidhan sabha ke sathyi adhyaksh kon the | Savidan sabha ke sathayi adhyaksh kon the | Savidhan sabha ke sthayi adhyaksh kon the | Savidhan sabha ke sathayi adhyaksh kn the |

1946 आजही के दिन डॉ. राजेन्द्र प्रसाद को भारतीय संविधान सभा का अध्यक्ष नियुक्त किया गया। इससे पहले डॉ. सच्चिदानंद सिन्हा को संविधान सभा का अस्थायी सदस्य चुना गया, जिन्होंने 9 दिसंबर 1946 को हुई संविधान सभा की पहली बैठक की अध्यक्षता की थी। इसके बाद डॉ. राजेंद्र प्रसाद सभा के स्थायी सदस्य चुने गए। संविधान के निर्माण के लिए कुल 22 समितियां बनाई गई थीं। इनमें से 29 अगस्त 1947 को गठित प्ररूप समिति का अध्यक्ष डॉ. भीमराव आंबेडकर को चुना गया था।

Savidhan sabha ke sathayi adhyaksh kon the

No.-1.  संविधान सभा के स्थाई अध्यक्ष कौन थे?

  1. a) डॉ. राजेंद्र प्रसाद
  2. b) डॉ. भीमराव अंबेडकर
  3. c) पं. जवाहरलाल नेहरू
  4. d) सरदार वल्लभभाई पटेल

उतर – डॉ. राजेंद्र प्रसाद

No.-2.  संविधान सभा की दूसरी बैठक (11 दिसंबर 1946) को संविधान सभा ने डॉ. राजेंद्र प्रसाद को स्थाई अध्यक्ष के रूप में चुना।

इससे पहले संविधान सभा की प्रथम बैठक (9 दिसंबर 1946) को सच्चिदानंद सिन्हा को संविधान सभा के पहले अध्यक्ष या अस्थाई अध्यक्ष के रूप में चुना।

Savidhan sabha ke sathayi adhyaksh 

डॉ. राजेंद्र प्रसाद :-

No.-1.   कांग्रेस के एक प्रमुख नेता के रूप में, डॉ राजेंद्र प्रसाद ने महात्मा गांधी और अन्य नेताओं के साथ काम किया।

No.-2.   डॉ. राजेंद्र प्रसाद को संविधान सभा के अध्यक्ष के रूप में चुना गया था।

No.-3.   वह भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के प्रमुख नेताओं में से एक थे और उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में एक प्रमुख भूमिका निभाई।

No.-4.   राजेंद्र प्रसाद 24 जनवरी 1950 को भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में चुने गए और उपाध्यक्ष हरेंद्र कुमार मुखर्जी थे।

No.-5.   डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने भारत के सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाले राष्ट्रपति (1950 से 1962) के रूप में काम किया।

डॉ. भीमराव अंबेडकर :-

Savidhan sabha k sathayi adhyaksh kon the

No.-6.  डॉ. भीमराव अंबेडकर भारतीय संविधान के जनक और भारत गणराज्य के वास्तुकारों में से एक थे।

No.-7.   डॉ. भीमराव अंबेडकर एक भारतीय बहुदेववादी, अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ और समाज सुधारक थे।

No.-8.  भारत की स्वतंत्रता के बाद, वह स्वतंत्र भारत के पहले कानून और न्याय मंत्री बने।

No.-9.   वह भारतीय संविधान के जनक और भारत गणराज्य के वास्तुकारों में से एक थे।

No.-10.   वह मसौदा समिति के अध्यक्ष थे।

No.-11.   21 फरवरी 1948 को भारत की संविधान सभा के समक्ष भारतीय संविधान का प्रारूप पहली बार पेश किया गया था।

No.-12.  29 अगस्त 1947 को संविधान सभा ने प्रारूप समिति का गठन किया जिसके अध्यक्ष डॉ भीमराव अंबेडर बने।

Scroll to Top