Samudragupta ka darbari kavi kaun tha

Samudragupta ka darbari kavi kaun tha

Samudragupta ka darbari kavi kaun tha | Samudragupt ka darbari kavi kaun tha | Samudragupta k darbari kavi kaun tha | Samudrgupta ka darbari kavi kaun tha | Samdragupta ka darbari kavi kaun tha | Samudrgupta ka darbari kavi kaun tha |

समुद्रगुप्त (राज 335/350-380) गुप्त राजवंश के चौथे राजा और चन्द्रगुप्त प्रथम के उत्तराधिकारी थे एवं पाटलिपुत्र उनके साम्राज्य की राजधानी थी। वे वैश्विक इतिहास में सबसे बड़े और सफल सेनानायक एवं सम्राट माने जाते हैं। समुद्रगुप्त, गुप्त राजवंश के चौथे शासक थे, और उनका शासनकाल भारत के लिये स्वर्णयुग की शुरूआत कही जाती है। समुद्रगुप्त को गुप्त राजवंश का महानतम राजा माना जाता है।

Samudragupta ka darbari kavi kaun tha

समुंद्रगुप्त का दरबारी कवि हरिषेण था , जिसने इलाहाबाद प्रशस्ति लेख की रचना की ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top