Praydeep Bharat Ke Darre -भारत के प्रायद्वीपीय दर्रे

Praydeep Bharat Ke Darre -भारत के प्रायद्वीपीय दर्रे

Praydeep Bharat Ke Darre -भारत के प्रायद्वीपीय दर्रे  | Praydeep Bharat Ke Darre -भारत के प्रायद्वीपीय दर्रे  | Praydeep Bharat Ke Darre  | Praydeep Bharat Ke Dare -भारत के प्रायद्वीपीय दर्रे  | Praydeep Barat Ke Darre -भारत के प्राद्वीपीय दर्रे  | Praydeep Bharat Ke Dre -भारत के प्रायद्वीपीय दर्रे  | Praydeep Bhaat Ke Darre -भारत के प्रायद्वीपीय  |

भारत और हिमालय में महत्वपूर्ण पर्वतीय दर्रे (Important Mountain Passes In India and The Himalayas in Hindi) के साथ-साथ स्थैतिक GK के महत्वपूर्ण विषयों में से एक है। UPSC CSE प्रीलिम्स परीक्षा में माउंटेन पास और मानचित्र पर उनके स्थान से संबंधित प्रश्न अक्सर 1 या 2 अंक के लिए पूछे जाते हैं। इस लेख में, हम भारत और हिमालय में स्थित पर्वतीय दर्रों की राज्यवार चर्चा करेंगे, साथ ही इसकी ऊंचाई और सामरिक महत्व के बारे में भी चर्चा करेंगे।

Praydeep Bharat Ke Darre -भारत के प्रायद्वीपीय दर्रे

भोर घाट (Bhor Ghat)

No.-1. यह कोंकण तट और दक्कन पठार के आसपास के इलाकों के बंदरगाहों (चोल, रेवडांडा, पनवेल) को जोड़ने के लिए सातवाहन राजवंश द्वारा विकसित प्राचीन व्यापार मार्ग है।

No.-2. महाराष्ट्र राज्य में कर्जत और खंडाला के बीच स्थित इस दर्रे से होकर इससे होकर मुम्बई-पूना मार्ग गुजरता है जो मुम्बई को अन्य कई दक्षिण भारतीय नगरों से जोड़ता है।

No.-3. यह घाट प्रस्तावित स्वर्णिम चतुर्भुज (Golden Quadrilateral) फ्रेट कॉरिडोर के अंतर्गत आता है।

No.-4. राज्य: महाराष्ट्र, भारत

No.-5. स्थान: पश्चिमी घाट श्रेणी के सह्याद्रि पर्वत का एक प्रमुख दर्रा है।

No.-6. किसके बीच है / किसको  अलग करता है: यह मुम्बई को अन्य कई दक्षिण भारतीय नगरों से जोड़ता है।

गोरान घाट (Goran Ghat)

No.-1. यह राजस्थान का सिरोही और जलोर शहर को उदयपुर शहर से जोड़ता है। यह समुद्र तल से लगभग 1200 मीटर ऊपर है।

No.-2. राज्य: राजस्थान

No.-3. स्थान: माउंट आबू के दक्षिण (अरावली की पहाड़ी)

No.-4. किसके बीच है / किसको  अलग करता है: यह गुरुशिकार को माउंट आबू से अलग करता है।

पालघाट (Palghat)

No.-1. इसे पलक्कड़ गैप भी कहा जाता है। दक्षिण-पश्चिम भारत के पश्चिमी घाट पर स्थित पर्वत श्रृंखला है जो केरल के पूर्वी किनारे को तमिलनाडू से अलग करता है।

No.-2. राज्य: तमिलनाडु – केरल, भारत

No.-3. स्थान: पलक्कड़, केरल और कोयंबटूर, तमिलनाडु के बीच में है

No.-4. किसके बीच है / किसको  अलग करता है: यह उत्तर में नीलगिरी पहाड़ियों और दक्षिण में अनामीलाई पहाड़ियों को जोड़ता है।

Praydeep Bharat Ke Darre

थल घाट (Thal Ghat)

No.-1. इसे थुल घाट या कसर घाट भी कहा जाता है। यह भुसावल-कल्याण रेखा से घिरे पश्चिमी घाटों में पर्वत ढलानों की एक श्रृंखला में स्थित है।

No.-2. राज्य: महाराष्ट्र, भारत

No.-3. स्थान: पश्चिमी घाट श्रेणी के सह्याद्रि पर्वत का एक प्रमुख दर्रा है।

असिगढ़ किला दर्रा (Asirgarh Fort Pass)

No.-1. यह उत्तर भारत को डेक्कन पठार वाले क्षेत्र को  जोड़ने के लिए अहिर राजवंश के राजा अहिर द्वारा बनाया गया था। इसलिए, इसे लोकप्रिय रूप से दक्कानी दरवाजा या डोरवे (Dakkani Darwaza or Doorway to the Deccan) के नाम से भी जाना जाता है।

No.-2. राज्य: मध्य प्रदेश

No.-3. स्थान: सतपुरा पर्वतमाला

No.-4. किसके बीच है / किसको  अलग करता है: यह उत्तर भारत को डेक्कन पठार से जोड़ता है।

हल्दीघाटी दर्रा (Haldighati Pass)

No.-1. यह क्षेत्र ऐतिहासिक रूप से बहुत प्रसिद्द है क्युकी यहाँ महाराणा प्रताप और अकबर के बीच में युद्ध हुआ था।  यह चैरिटी गुलाब उत्पाद और मोलेला की मिट्टी कला के लिए प्रसिद्ध है।

No.-2. राज्य: राजस्थान, भारत

No.-3. स्थान: अरवली पर्वत श्रृंखला

No.-4. किसके बीच है / किसको  अलग करता है: यह राजस्थान के राजसमंद और पाली जिलों को जोड़ता है।

Praydeep Bhaat Ke Darre

अम्बा घाट दर्रा (Amba Ghat Pass)

No.-1. यह चित्रमय और सुखद वातावरण वाला क्षेत्र हैं। यह पैराग्लाइडिंग खेल के लिए प्रसिद्ध है।

No.-2. राज्य: महाराष्ट्र, भारत

No.-3. स्थान: पश्चिमी घाट श्रेणी के सह्याद्रि पर्वत का एक प्रमुख दर्रा है।

No.-4. किसके बीच है / किसको  अलग करता है: यह रत्नागिरी जिले को कोल्हापुर जिले से जोड़ता है।

चोरला घाट दर्रा (Chorla Ghat Pass)

No.-1. यह क्षेत्र वृक सर्प सांप (Lycodon striatus) की दुर्लभ प्रजातियों के लिए प्रसिद्ध है।

No.-2. राज्य: गोवा, कर्नाटक और महाराष्ट्र

No.-3. स्थान: पश्चिमी घाट श्रेणी के सह्याद्रि पर्वत का एक प्रमुख दर्रा है।

No.-4. किसके बीच है / किसको  अलग करता है: यह गोवा, कर्नाटक और महाराष्ट्र को जोड़ता है।

मल्सेज घाट दर्रा (Malshej Ghat Pass)

No.-1. यह क्षेत्र बटेर, रेल, क्रैक, राजहंस (flamingos) और सारंग (cuckoos) जैसे पक्षियों की विस्तृत प्रजातियों के लिए प्रसिद्ध है।

No.-2. राज्य: महाराष्ट्र, भारत

No.-3. स्थान: पश्चिमी घाट श्रेणी के सह्याद्रि पर्वत का एक प्रमुख दर्रा है।

Praydeep Bharat Ke Dre -भारत के प्रायद्वीपीय दर्रे

नानेघाट दर्रा (Naneghat Pass)

No.-1. इसे नानघाट या नाना घाट भी कहा जाता है। इस दर्रे से प्राचीन काल में व्यापार हुआ करता था। इस क्षेत्र में विभिन्न गुफाएं हैं और ब्रह्मी लिपि में हिंदू संस्कृत शिलालेखों के साथ प्रमुख गुफा हैं।

No.-2. राज्य: महाराष्ट्र, भारत

No.-3. स्थान: पश्चिमी घाट श्रेणी के सह्याद्रि पर्वत का एक प्रमुख दर्रा है।

No.-4. किसके बीच है / किसको  अलग करता है: यह पुणे जिले को जुन्नार शहर से जोड़ता है।

तमहिनी घाट (Tamhini Ghat)

Praydeep Bharat Ke Dare -भारत के प्रायद्वीपीय दर्रे

No.-1. यह क्षेत्र हरित घाट, धुंधली सड़कों और व्यापक झरने के लिए प्रसिद्ध है।

No.-2. राज्य: महाराष्ट्र, भारत

No.-3. स्थान: पश्चिमी घाट श्रेणी के सह्याद्रि पर्वत का एक प्रमुख दर्रा है।

No.-4. किसके बीच है / किसको  अलग करता है: यह पुणे जिले के मुलशी और तामिनी तालुका को जोड़ता है।

अम्बोली घाट दर्रा (Amboli Ghat Pass)

No.-1. यह क्षेत्र वन्य जीवन, घने पहाड़ी जंगलों, हिरणेश्वरी मंदिर और कई झरने के लिए प्रसिद्ध है।

No.-2. राज्य: महाराष्ट्र, भारत

No.-3. स्थान: पश्चिमी घाट श्रेणी के सह्याद्रि पर्वत का एक प्रमुख दर्रा है।

No.-4. किसके बीच है / किसको  अलग करता है: यह महाराष्ट्र के सावंतवाडी तालुका को कर्नाटक के बेलगाम शहर से जोड़ता है।

कुंभारली घाट दर्रा (Kumbharli Ghat Pass)

No.-1. यह महाराष्ट्र के तटीय रत्नागिरी क्षेत्र को देश क्षेत्र में स्थित सतारा जिला को जोड़ता है।

No.-2. राज्य: महाराष्ट्र, भारत

No.-3. स्थान: पश्चिमी घाट

No.-4. किसके बीच है / किसको  अलग करता है: यह रत्नागिरी जिला को सतारा जिला से जोड़ता है।

Scroll to Top