Passes Of Himalayas  हिमालय के दर्रे

 Passes Of Himalayas in Hindi – हिमालय के दर्रे

Passes Of Himalayas in Hindi – हिमालय के दर्रे | Passes Himalayas in Hindi – हिमालय के दर्रे | Passes Of Himalayas in Hind | Passes Of Himalayas Hindi – हिमालय के दर्रे | Passes Of Himalayas – हिमालय के दर्रे | Passes Of Himalyas in Hindi – हिमालय के दर्रे | Passes Of Himalas in Hindi – हिमालय के दर्रे |

ये भारत और हिमालय में महत्वपूर्ण पर्वतीय दर्रे (Important Mountain Passes In India and The Himalayas in Hindi) पड़ोसी देशों से जुड़ने के लिए प्रवेश द्वार के रूप में काम करते हैं और उनमें से कुछ रणनीतिक महत्व रखते हैं।प्राचीन काल में, हालांकि हिमालय के उबड़-खाबड़ इलाके ने विदेशियों के लिए भारत में प्रवेश करना मुश्किल बना दिया था, लेकिन भारतीय उपमहाद्वीप में पहाड़ के दर्रे ने उनके लिए मार्ग प्रशस्त किया।

 Passes Of Himalayas in Hindi – हिमालय के दर्रे

रोहतांग दर्रा

No.-1. हिमालय (भारत) में स्थित एक प्रमुख दर्रा है।

No.-2. यह मनाली को लेह से सड़क मार्ग द्वारा जोड़ता है।

No.-3. यह दर्रा समुद्र तल से 4,111 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।

No.-4. इस दर्रे का पुराना नाम ‘भृगु-तुंग’ था, ‘रोहतांग’ नया नाम है। यहाँ पूरे साल बर्फ़ की चादर बिछी रहती है।

No.-5. रोहतांग दर्रा लाहोल और स्पीति ज़िलों का प्रवेश द्वार कहा जाता है।

No.-6. यह दर्रा मौसम में होने वाले अचानक बदलावों के लिए भी ज़िम्मेदार है।

No.-1. समुद्र तल से लगभग 4,111 मीटर की ऊँचाई पर स्थित रोहतांग दर्रा मनाली को लेह से सड़क मार्ग द्वारा जोड़ता है।

No.-7. हिमाचल प्रदेश के लाहोल-स्पीति ज़िले का प्रवेश द्वारा कहा जाने वाला यह दर्रा कभी ‘भृगु तुंग’ के नाम से पुकारा जाता था।

No.-8. यह बौद्ध सांस्कृतिक विरासत के धनी लाहोल-स्पीति को हिन्दू सभ्यता वाले कुल्लू से प्राकृतिक रूप से बांटता है।

No.-9.  मनाली से रोहतांग दर्रे तक पहुँचने के लिए क़रीब पचास किलोमीटर का सफर तय करना पड़ता है।

कराकोरम दर्रा 

No.-1. कराकोरम दर्रा’ कराकोरम पर्वत श्रेणी में भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य और चीन द्वारा नियंत्रित शिंजियांग प्रदेश के बीच स्थित है।

No.-2. स्थिति  भारत-चीन

No.-3. ऊँचाई    5,654 मीटर

No.-4. पर्वत श्रृंखला        कराकोरम पर्वत श्रेणी

No.-5.   तापमान बहुत नीचे तक गिरता है और तेज़ हवाएँ चलती हैं, लेकिन यही तीव्र हवाएँ यहाँ हिम नहीं टिकने देतीं, जिस वजह से यह दर्रा अधिकतर बर्फ़ मुक्त रहता है।

 Passes Of Himalayas in Hindi 

No.-6. कराकोरम दर्रा जम्मू कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र में हिमालय के कराकोरम श्रेणियों के मध्य स्थित है।

No.-7. हिमालय पर्वत श्रेणी का यह सर्वाधिक ऊंचाई पर स्थित दर्रा है, जो 5,654 मीटर ऊंचा है।

No.-8. प्राचीन काल में इस दर्रे से होकर यारकंद को मार्ग जाता था।

No.-9. इस दर्रे से होकर चीन के लिए एक सड़क बनायी गयी है।

No.-10. वर्तमान में इस दर्रे पर चीन द्वारा अतिक्रमण कर लिया गया है।

No.-11. कराकोरम दर्रा अत्यंत ऊँचाई पर है और दूर-दूर तक कोई वनस्पति नहीं उगती, जिससे यहाँ से गुज़रते कारवाँ में बहुत से जानवर दम तोड़ देते हैं।

No.-12. इस कारण राह पर जानवरों की हड्डियाँ बिखरी रहती हैं।

No.-13. लेह जाते हुए इस दर्रे से दक्षिण में लगभग 5300 मीटर (17,400 फ़ुट) की ऊँचाई पर देपसंग मैदान है।

No.-14. यह मैदान भी वनस्पति रहित है और इसे पार करने में तीन दिन लग जाया करते थे।

No.-15. उत्तर में रास्ता थोड़ा कम कठिन है और कम ऊँचाई वाले सुगेत दावन दर्रे को पार करके काराकाश नदी के किनारे स्थित शायदुल्ला पहुँचा जाता है, जहाँ जानवरों के चरने के लिये पहले बहुत घास थी।

No.-16. यह दर्रा दो पहाड़ों के बीच के कन्धे पर स्थित है।

No.-17. यहाँ तापमान बहुत गिरता है और तेज़ हवाएँ चलती हैं, लेकिन यही तीव्र हवाएँ यहाँ हिम नहीं टिकने देती, जिस वजह से यह अधिकतर बर्फ़ मुक्त रहता है।

No.-18. फिर भी समय-समय पर बर्फ़बारी होती रहती है।

No.-19. इस दर्रे की चढ़ाई कठिन नहीं मानी जाती और हिममुक्त होने से इसे सालभर प्रयोग में लाया जा सकता है।

No.-20. भारत-चीन तनाव के कारण यह दर्रा वर्तमान में आने-जाने के लिए बंद है।

 Passes Of Himalayas  Hindi 

बड़ा-लाचा-ला दर्रा

No.-1. हिमाचल प्रदेश में जास्कर श्रेणियों के मध्य स्थित यह दर्रा मण्डी से लेह जाने का मार्ग प्रदान करता है।

No.-2. यह दर्रा 4,512 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

बुर्जिला दर्रा

No.-1. जम्मू कश्मीर (भारत) में स्थित है।

No.-2. यह हिमालय के अन्तर्गत आता है।

No.-3. यह दर्रा पाक अधिकृत कश्मीर एवं कश्मीर घाटी को जोड़ता है।

No.-4. इस दर्रे से होकर काशनगर और मध्य एशिया का मार्ग गुजरता है।

No.-5. समुद्र तल से बुर्जिला दर्रा 4,100 मीटर (13,500 फीट) की ऊँचाई पर कश्मीर, गिलगित और श्रीनगर के बीच का एक प्राचीन मार्ग है।

No.-6. यह दर्रा कश्मीर घाटी को लद्दाख के देवसाईं मैदानों से जोड़ता है।

No.-7. बर्फ से ढक जाने के कारण यह शीत ऋतु में व्यापार और परिवहन के लिए बंद रहता है।

No.-8. बुर्जिला दर्रा भारत और पाकिस्तान के बीच नियंत्रण रेखा पर स्थित है।

जोजिला दर्रा

No.-1. ज़ोजिला जम्मू और कश्मीर में जास्कर श्रेणी में स्थित एक प्रसिद्ध दर्रा है।

No.-2. यह दर्रा हिमालय के अन्तर्गत आता है। इसके द्वारा श्रीनगर और लेह सड़क मार्ग से जुड़ते हैं।

No.-3. ज़ोजिला दर्रे पर भूस्खलन के कारण सड़क खिसकने का डर सदा बना रहता है।

No.-4. यह दर्रा समुद्र तल से लगभग 3528 मीटर (11575 फीट) की ऊँचाई पर स्थित है।

No.-5. ज़ोजिला दर्रा श्रीनगर को कारगिल और लेह से जोड़ता है।

 Passes Of Himalas in Hindi – हिमालय के दर्रे

No.-6. अत्यधिक बर्फ़बारी के कारण यह दर्रा शीत ऋतु में बंद रहता है।

No.-7. ‘सीमा सड़क संगठन’ (बी.आर.ओ.) द्वारा इसे वर्ष की अधिकतर अवधि तक खोले रखने की कोशिश की जाती रही है।

No.-8. इस दर्रे की देखभाल और इस पर से बर्फ हटाने के लिए ‘सीमा सड़क संगठन’ द्वारा एक ‘बीकॅान फोर्स’ की स्थापना भी की गयी है।

No.-9. श्रीनगर-ज़ोजिला मार्ग को केंद्र सरकार द्वारा ‘राष्ट्रीय राजमार्ग-1डी’ के रूप में घोषणा की गयी है।

No.-10. सन 1948 में पाकिस्तान ने इस दर्रे पर क़ब्ज़ा कर लिया था, परन्तु भारतीय सेना ने आश्चर्यजनक रूप से इतनी ऊंचाई पर टैंको का इस्तेमाल करते हुए ऑपरेशन ‘बाइसन’ के तहत इस पर पुनः कब्ज़ा कर लिया।

पीर पंजाल   

No.-1. पीर पंजाल दर्रा जम्मू-कश्मीर के दक्षिण-पश्चिम में पीर पंजाल श्रेणियों के मध्य स्थित है।

No.-2. इसकी ऊँचाई लगभग 3,494 मीटर है।

No.-3. यह दर्रा कुलगांव से कोठी हेतु मार्ग उपलब्ध कराता है।

No.-4. जम्मू को श्रीनगर से जोड़ने वाला यह पारंपरिक दर्रा ‘मुग़ल मार्ग’ पर स्थित है।

No.-5. “पीर की गली” के नाम से विख्यात यह दर्रा मुग़ल सड़क के माध्यम से राजौरी और पुंछ के साथ कश्मीर घाटी को जोड़ता है।

No.-6. जम्मू-कश्मीर को घाटी से जोड़ने वाला यह सबसे सरल और छोटा एवं पक्का मार्ग है।

No.-7. ‘पीर की गली’ में मुग़ल मार्ग का यह उच्चतम बिंदु है, जो 11500 फुट के लगभग है।

No.-8. यहाँ का निकटम शहर सोपियां है, जिसे “सेबों की घाटी” भी कहते हैं

 Passes Of Himalayas  हिमालय के दर्रे

शिपकी ला दर्रा

No.-1. शिपकी ला दर्रा हिमालय का एक प्रमुख दर्रा है।

No.-2. यह भारत के हिमाचल प्रदेश के किन्नौर ज़िले को तिब्बत से जोड़ता है।

No.-3. यह हिमालय की पहाड़ियों के अन्तर्गत आता है।

No.-4. शिपकी ला दर्रा हिमाचल प्रदेश में किन्नौर ज़िले में स्थित है।

No.-5. इस दर्रे से होकर शिमला से तिब्बत का मार्ग उपलब्ध होता है।

No.-6. चीन और भारत के बीच व्यापार अधिकतर इसी दर्रे से होता है।

No.-7. सतलुज नदी भारत में इसी दर्रे से होकर प्रवेश करती है।

No.-8. समुद्र तल से लगभग 4300 मीटर से भी अधिक ऊँचाई पर स्थित यह दर्रा, सतलुज महाखड्ड से होकर हिमाचल प्रदेश को तिब्बत से सम्बद्ध करता है।

No.-9. भारत के चीन से होने वाले व्यापर के लिए यह ‘नाथु ला’ और ‘लिपुलेख’ के बाद तीसरा दर्रा (राजमार्ग 22) है।

No.-10. शीत ऋतु में शिपकी ला दर्रा बर्फ से ढका रहता है, जिस कारण यहाँ आवागमन कुछ समय के लिए बाधित रहता है।

 

Scroll to Top