­Misr ki sabhyata in Hindi

­Misr ki sabhyata in Hindi

­Misr ki sabhyata in Hindi |­Misr ki sabhyta in Hindi |­Misr ki sabhyata Hindi |­Misr ki sabhyta in Hindi |­Misr ki sabhyat in Hindi |­Misr ki sabhyata in Hindi |­Misr ki sabhata in Hindi |­Misr ki sabyata in Hindi |­Misr ki sabhyata |­Misr ki sabhyt in Hindi |

प्राचीन मिस्र, नील नदी के निचले हिस्से के किनारे केन्द्रित पूर्व उत्तरी अफ्रीका की एक प्राचीन सभ्यता थी, जो अब आधुनिक देश मिस्र है। यह सभ्यता 3150 ई. पू. के आस-पास, प्रथम फैरो के शासन के तहत ऊपरी और निचले मिस्र के राजनीतिक एकीकरण के साथ समाहित हुई और अगली तीन सदियों में विकसित होती रही |

­Misr ki sabhyata in Hindi

मिस्र का राजनीतिक इतिहास –

No.-1.  मिस्र की सभ्यता के इतिहास में पिरामिड युग, सामन्तशाही युग एवं साम्राज्यवादी युग विशेष उल्लेखनीय है । इनमें से पिरामिड युग सर्वाधिक गौरवपूर्ण था ।

No.-2. मिस्र सभ्यता के समय हुई विभिन्न राजनीतिक घटनाओं को देखते हुए मिस्र के राजनीतिक इतिहास को तीन भागों में विभक्त किया गया है –

No.-3. पहला पिरामिड युग ( 3400 ई.पू. से 2500 ई.पू.), दूसरा सामन्तशाही युग ( 2500 ई.पू. से 1800 ई.पू.) एवं तीसरा साम्राज्यवादी युग ( 1580 ई.पू. से 1150 ई.पू.) तक ।

No.-4. पिरामिड काल का प्रथम शासक मेनिस था । इसी के समय में मिस्त्र के वास्तविक राजनीतिक जीवन का श्रीगणेश हुआ ।

No.-5. 2580 ई. पू. तक फराओ चियोप्स की शक्ति का पूर्ण ह्रास हो गया ।

No.-6. पिरामिड युग की महत्वपूर्ण उपलब्धि पिरामिड का निर्माण था , जिसको फराओ ने अपनी मृत्यु के उपरांत दफनाये जाने के लिए किया था ।

No.-7. गिजे का पिरामिड का निर्माता फराओ चियोप्स (खूफू) था । अधिकांश पिरामिडों का निर्माण नील नदी के दक्षिणी किनारे पर स्थित नेनफिस नगर में किया गया था ।

No.-8. प्रसिद्ध “गीज ऑफ मेडियम” की दीवारें सफेद और काले रंग में है । प्राचीन मिस्र का प्रधान देवता – रॉ ( सूर्य देवता ) था ।

No.-9. पिरामिड युग के पतन के बाद नए सामन्तशाही काल का उदय हुआ । मिस्र के इतिहास में सामन्तशाही युग 2500 ई.पू. से 1800 ई.पू. तक रहा ।

No.-10. सामन्तशाही युग में मिस्र के उत्तर से हिकसास जाति ने आक्रमण करके मिस्र को पराधीन बना लिया था ।

No.-11. इसके पश्चात नवीन साम्राज्य ( साम्राज्यवादी युग) की स्थापना हुई जो हर दृष्टि से पिरामिड काल की उत्तराधिकारी कही जा सकती है ।

No.-12. इस काल को नवीन साम्राज्य कहा जाता है । युटमस प्रथम इस काल का (1545 ई.पू. से 1524 ई.पू.) महान विजेता था तथा महारानी हटशेटपुट ( 1501 ई.पू. से 1479 ई.पू.) प्रथम महिला शासिका थी ।

No.-13. महारानी को मंदिरों के निर्माण तथा व्यापार में अधिक रूचि थी । उसने “करनक” में एक सुंदर मंदिर का निर्माण करवाया ।

No.-14. मिस्र को “नील नदी की देन” कहने वाला प्रमुख इतिहासकार हेरोडोट्स था ।

No.-15. मिस्र का नेपोलियन थुटमोज तृतीय कहलाता है ।

मिस्र सभ्यता की प्रमुख विशेषताएँ –

(1) सामाजिक जीवन –

No.-1. मिस्र के शासक फराओं कहलाते थे और प्रजा पर उनकी सत्ता निरंकुश थी । लोग उसे ईश्वर का प्रतिनिधि मानते थे । उच्च वर्ग में सामंत व पुरोहित, मध्यम वर्ग में व्यापारी, व्यवसाय तथा निम्न वर्ग में कृषक तथा दास थे ।

No.-2.  स्त्री व पुरुषों में लगभग उच्च वर्ग के लोग आभूषण पहनते थे । संगीत, नृत्य, नटबाजी, पशु, जुआ आदि उनके मनोरंजन के साधन थे । हाथीदांत जड़ित मेज और कुर्सियाँ तथा बहुमूल्य पर्दें व कालीन सामन्तों के भवनों की शोभा बढ़ाते थे ।

­Misr ki sabhyata 

(2) कृषि पशुपालन –

No.-1. मिस्र के लोगों का मुख्य व्यवसाय कृषि था । जौ, प्याज, बाजरा व कपास की खेती की जाती थी । मिस्र को प्राचीन विश्व का “अन्न का भंडार” कहा जाता था , क्योंकि वहाँ वर्ष में तीन बार फसलें बोई जाती थी ।

No.-2.  बकरी, गधा, कुत्ता, गाय, ऊंट, सूअर आदि पालतू पशु थे ।

(3) व्यापार उद्योग –

No.-1. मिस्र में धातु, लकड़ी, मिट्टी, काँच, कागज तथा कपड़े का काम करने वाले कुशल कारीगर थे । मिस्र वासियों को ताँबे के अतिरिक्त अन्य धातुएँ बाहर से मंगवानी पड़ती थी ।

No.-2.  मिस्र वासी लकड़ी पर नक्काशी तथा काँच पर चित्रकारी कार्य से भी अवगत थे । वे वस्तु विनिमय द्वारा व्यापार करते थे । अरब व इथोपिया से उनके व्यापारिक संबंध थे ।

(4) धार्मिक जीवन –

No.-1. मिस्र वासियों के प्रमुख देवता रॉ ( सूर्य ), ओसरिम ( नील नदी) तथा सिन ( चंद्रमा) थे । उनके देवता प्राकृतिक शक्तियों के प्रतीक थे ।

No.-2.  सभ्यता के प्रारंभिक काल में मिस्रवासी बहुदेववादी थे किन्तु साम्राज्यवादी युग में अखनाटन नामक फराओं ने एकेश्वरवाद की विचारधारा को महत्व दिया तथा सूर्य की उपासना आरम्भ की ।

(5) ज्ञान विज्ञान –

No.-1. मिस्र के लोगों ने तारों व सूर्य के आधार पर अपना कलेण्डर बना लिया था तथा वर्ष के 360 दिन की गणना कर ली थी । मिश्र वासियों ने धूप घड़ी का आविष्कार कर लिया था । उन्होंने अपनी वर्णमाला विकसित करके पेपीरस वृक्ष से कागज का निर्माण भी किया था ।

(6) पिरामिड –

No.-1. मिस्र वासियों का विश्वास था कि मृत्यु के बाद शव में आत्मा निवास करती है । अत: वे शव पर एक विशेष तेल पहले करते थे । इससे सैकड़ों वर्षो तक शव सड़ता नहीं था ।

No.-2. शवों की सुरक्षा के लिए समाधियां बनाई जाती थी , जिन्हें वे लोग पिरामिड कहते थे । पिरामिडों में रखे शवों को ‘ममी‘ कहा जाता था ।

No.-3. मिस्र के पिरामिड में गिजे का पिरामिड प्राचीन वास्तुकला की दृष्टि से सर्वश्रेष्ठ कलाकृति है । गिजे का यह पिरामिड 481 फीट ऊँचा तथा 755 फीट चौड़ा है । इसमें ढाई- ढाई टन के 23 लाख पत्थर के टुकड़े लगे हैं ।

No.-4. इसके बाहर पत्थर की एक विशालकाय नृसिंह की मूर्ति (जिसे रिफ्क्स कहा जाता है ) बनी है । पिरामिड मिस्र वासियों के गणित व ज्यामिति के ज्ञान के साक्षी हैं । मिस्र में अब भी ऐसे कई पिरामिड विद्यमान है ।

Scroll to Top