Mesopotamia Sabhyata in Hindi

Mesopotamia Sabhyata in Hindi

Mesopotamia Sabhyata in Hindi | Mesopotmia Sabhyata in Hindi | Mesopotami Sabhyata in Hindi |Mesopotamia Sabhyat in Hindi | Mesopotamia Sabhyta in Hindi | Mesopotamia Sabhata in Hindi | Mesopotamia Sabhyata | Mesopotamia Sabata in Hindi |

मेसोपोटामिया में चार प्रसिद्ध सभ्यताएं हुईं हैं -सुमेरिया, बेबीलोन, असीरिया, कैल्ड्रिया। दो नदियों दजला और फरात के बीच की धरती पर इंसानी सभ्यता के पहले शहर बसे. ईसा पूर्व चौथी सदी से करीब 3,000 सालों तक मेसोपोटामिया की सभ्यता के सबूत मिलते हैं. ईसा पूर्व पहली सदी आते आते वहां बेबीलोन और निनवे जैसे कई शहर बस चुके थे |

Mesopotamia Sabhyata in Hindi

No.-1.  मेसोपोटामिया यूनान भाषा का शब्द है जिसका अर्थ है- दो नदियों के बीच की दूरी । इस देश का आधुनिक नाम इराक है । इस प्रदेश को दजला और फरात नदियाँ सींचती है ।

No.-2. मेसोपोटामिया को इसकी अर्द्धचन्द्र सी आकृति तथा खेती की दृष्टि से अत्यधिक उर्वर होने के कारण “उपजाऊ अर्द्धचंद्र” भी कहा गया है ।

No.-3. प्राचीन काल में इस प्रदेश का दक्षिणी भाग सुमेर कहलाता था जो मेसोपोटामिया की सभ्यता का मुख्य केंद्र था । सुमेर के उत्तर-पूर्व की तरफ के भाग बाबुल ( बेबीलोन) तथा अक्वद कहते थे और उत्तर की ऊँची भूमि असीरिया कहलाती थी ।

मेसोपोटामिया के राज्यों का उत्थान और पतन

No.-1. कालांतर में उत्तर के पर्वतीय प्रदेशों से आए सुमेरियन लोग मेसोपोटामिया में बस गई और उन्होंने एक अत्यधिक समृद्ध सभ्यता का विकास किया ।

No.-.2 सुमेरियन लोगों ने नगर राज्य की सरकार स्थापित की । उर, लगाश, एरेक तथा एरिडू प्रसिद्ध नगर राज्य थे ।

No.-3. 2500 ई.पू. लगभग सागॉन प्रथम ने , जो अक्कद से आया था , सुमेरियन लोगों को जीत लिया ।

No.-4. सुमेर और अक्कद दोनों राज्यों को मिलाकर उसने एक सुदृढ़ राज्य स्थापित किया , किन्तु 2100 ई. पू. के लगभग ये अक्कादियन लोग भी पराजित हो गए ।

No.-5. बाबुल या बेबीलोन में एक नए सामी राजवंश का उदय हुआ । बेबीलोन नगर अब इस साम्राज्य की राजधानी बन गया

No.-6. बेबीलोनिया के सबसे प्रसिद्ध सम्राट हम्मूराबी ने विभिन्न नगर राज्यों में होने वाली लड़ाइयों को रोककर तथा समस्त देश में एक जैसे कानून लागू कर एक दृढ़ राज्य स्थापित किया ।

No.-7. बेबीलोनिया की सभ्यता भी सुमेरियन सभ्यता पर आधारित थी । इसके अनंतर मेसोपोटामिया में असीरियाई लोगों ने अपना साम्राज्य (1100- 612 ई.पू.) स्थापित किया ।

No.-8. असीरियाई लोगों ने सीरिया, फिलस्तीन, फिनिशिया अभी प्रदेशों को जीतकर विशाल साम्राज्य स्थापित किए ।

No.-9. इसके बाद काल्डियाई लोगों ने असीरियाई लोगों को पराजित कर एक दूसरे शक्तिशाली बेबीलोनियन साम्राज्य ( 612-539ई.पू.) राज्य का निर्माण किया , किन्तू 539 ई. पू. उन्हें पारसियों के हाथों पराजित होना पड़ा ।

No.-10. सुमेरिया(3500-2340 ई.पू.) , बेबीलोनिया, असीरिया तथा कोल्डिया की सभ्यताओं को समग्र रूप में मेसोपोटामिया की सभ्यता के नाम से जाना जाता है ।

मेसोपोटामिया सभ्यता की विशेषताएँ –

हम्मूराबी की विधी संहिता –

No.-1. बेबीलोन के सम्राट हम्मूराबी ने अपनी प्रजा के लिए एक विधि संहिता बनाई थी जो इस समय उपलब्ध सबसे प्राचीन विधि संहिता है ।

No.-2. सम्राट ने इसे एक 8 फूट ऊँची पत्थर की शिला पर उत्कीर्ण कराया था । हम्मूराबी का दण्ड विषयक सिद्धान्त यह था कि ” जैसे को तैसा और खून का बदला खून “

Mesopotamia Sabhyata

मेसोपोटामिया का सामाजिक जीवन –

No.-1. मेसोपोटामिया सभ्यता में राजा पृथ्वी पर देवताओं का प्रतिनिधि माना जाता था । राजा व राज परिवार के बाद दूसरा स्थान पुरोहित वर्ग का था जो संभवत: राजतंत्र की प्रतिष्ठा से पूर्व शासक रहे थे ।

No.-2. मध्यमवर्ग में जमीदार,व्यापारी एवं दुकानदार थे । समाज में दासों की स्थिति सबसे नीचे थी । लगातार युद्ध होते रहने के कारण समाज में सेना का महत्वपूर्ण स्थान था ।

(3) आर्थिक जीवन –

No.-1. कृषि व पशुपालन – इस सभ्यता के लोगों का प्रमुख व्यवसाय कृषि था । वहां के किसान भूमि की जुताई हलों से करते थे और बीज एक कीप द्वारा बोते थे ।

No.-2. खेत की सिंचाई के लिए वह नदियों के बाढ़ के पानी को नहर द्वारा ले जाकर बड़े-बड़े बांधों में इकट्ठा कर लेते थे ।

व्यापार उद्योग – मेसोपोटामिया की सभ्यता मूलत: एक व्यवसायिक सभ्यता थी । वहां देवता का मंदिर एक धार्मिक स्थल ही नहीं एक व्यवसायिक केंद्र भी था ।

No.-1. यही सर्वप्रथम बैंक प्रणाली का विकास हुआ । मेसोपोटामिया का भारत की सिंधु– सरस्वती सभ्यता से व्यापारिक संबंध था ।

(4) धार्मिक मान्यताएँ –

No.-1. मेसोपोटामिया के लोग अनेक देवताओं में विश्वास करते थे । प्रत्येक नगर का अपना संरक्षक देवता होता था । उसे ‘जिगुरात‘ कहते थे जिसका अर्थ है – स्वर्ग की पहाड़ी ।

No.-2. उर नगर मेसोपोटामिया के सबसे बड़े नगरों में से था । उर नगर में जिगुरात का निर्माण एक कृत्रिम पहाड़ी पर ईंटो से हुआ था । उर के जिगुरात में तीन मंजिल थी और उसकी ऊंचाई 20 मीटर से अधिक थी ।

Mesopotamia Sabhyta in Hindi

(5) ज्ञान विज्ञान –

No.-1. विज्ञान के क्षेत्र में मेसोपोटामिया के लोगों की उपलब्धियां महत्वपूर्ण थी । खगोल विज्ञान के क्षेत्र में उन्होंने काफी उन्नति कर ली थी । उन्होंने सूर्योदय, सूर्यास्त तथा चन्द्रोदय, चन्द्रोस्त का ठीक समय मालूम कर लिया था ।

No.-2. उन्होंने दिन और रात्रि के समय का हिसाब लगाकर पूरे दिन को 24 घंटों में बांटा था । 60 सेकंड का मिनट और 60 मिनट के 1 घंटे का विभाजन सबसे पहले उन्होंने ही किया ।

No.-3. रेखा गणित के वृत्त को उन्होंने 360-degree में विभाजित करना प्रारंभ किया था । इस तरह मेसोपोटामिया के निवासी विज्ञान और गणित की उन्नत परम्पराओं से अवगत थे ।

(6) स्थापत्य कला –

No.-1. मेसोपोटामिया के कलाकारों ने मेहराब का भी आविष्कार किया । मेहराब स्थापत्य कला की एक महत्वपूर्ण खोज थी क्योंकि यह बहुत अधिक वजन संभाल सकती थी और देखने में आकर्षक लगती थी ।

(7) कीलाक्षर लीपि –

No.-1. मेसोपोटामिया की पहली लिपि का विकास सुमेर में हुआ । सुमेरियन व्यापारियों ने अपना हिसाब किताब रखने के लिए कीली जैसे चिन्ह लेखन कला का विकास किया । किसी कूनिफार्म या कीलाक्षर कहते हैं ।

Scroll to Top