Kushan vansh ka sabse prtapi raja kon the

Kushan vansh ka sabse prtapi raja kon the

Kushan vansh ka sabse prtapi raja kon the | Kushan vansh k sabse prtapi raja kon the | Kushan vansh ka sabs prtapi raja kon the | Kushan vansh ka sabse prtpi raja kon the | Kushan vansh ka sabse prtapi raja kon  |

कुषाण प्राचीन भारत के राजवंशों में से एक था। कुछ इतिहासकार इस वंश को चीन से आए युएझ़ी लोगों के मूल का मानते हैं। सम्राट कनिष्क भारत में आकर यहां की बौद्ध संस्कृति का हिस्सा बन गए भारत में सर्वप्रथम भगवान बुद्ध की मूर्तियों का निर्माण कुषाण काल में ही हुआ इसमें गंधार व मथुरा शिल्पकला का उदय कुषाण काल में ही हुआ ।

Kushan vansh ka sabse prtapi raja kon the

कुषाण वंश का सबसे प्रतापी राजा कौन था ?

कुषाण वंश का सबसे प्रतापी राजा कनिष्क था |

कनिष्क

No.-1. कुषाण वंश का सबसे प्रतापी राजा कनिष्क था ।

No.-2. इसकी राजधानी पुरुषपुर या पेशावर थी । कुषाणों की द्वितीय राजधानी मथुरा थी ।

No.-3. कनिष्क ने 78 ईसवी (गद्दी पर बैठने के समय ) में एक संवत् चलाया, जो शक- संवत कहलाता है ,जिसे भारत सरकार द्वारा प्रयोग में लिया जाता है ।

No.-4. बौद्ध धर्म की चौथी बौद्ध संगीति कनिष्क के शासनकाल में कुण्डलवन (कश्मीर) में प्रसिद्ध बौद्ध विद्वान वसुमित्र की अध्यक्षता में हुई ।

No.-5. कनिष्क बौद्ध धर्म के महायान संप्रदाय का अनुयायी था ।

No.-6. कनिष्क का राजवेद्य आयुर्वेद का विख्यात विद्वान चरक था, जिसने चरकसंहिता की रचना की ।

No.-7. महाविभाष सूत्र के रचनाकार वसुमित्र है। इसे ही बौद्ध धर्म का विश्वकोश कहा जाता है ।

Kushan vansh ka sabse prtapi raja kon 

No.-8. कनिष्क के राजकवि अश्वघोष ने बौद्धों का रामायण “बुद्धचरित” की रचना की ।

No.-9. वसुमित्र, पार्श्व, नागार्जुन, महाचेत और संघरक्ष भी कनिष्क के दरबार की विभूति थे ।

No.-10. भारत का आइंस्टीन नागार्जुन को कहा जाता है । इनकी पुस्तक माध्यमिक सूत्र ( सापेक्षता का सिद्धांत ) है ।

No.-11. ह्नेनसांग के विवरण एवं चीनी ग्रंथों से प्रकट होता है कि गांधार कनिष्क के अधीन था।

No.-12. कश्मीर पर अधिकार ‘राजतरंगिणी’ से प्रकट होता है । कनिष्क ने कश्मीर को जीतकर वहाँ कनिष्कपुर नामक नगर बसाया ।

No.-13. उसने काशगर, यारकन्द व खोतान पर भी विजय प्राप्त की ।

No.-14. महास्थान (बोगरा ) में पायी गयी सोने की मुद्रा पर कनिष्क की खड़ी मूर्ति अंकित है ।

No.-15. मथुरा जिले में कनिष्क की एक प्रतिमा मिली है । इस प्रतिमा में उसने घुटने तक चोगा और भारी बूट पहने हुए हैं ।

No.-16. गांधार शैली एवं मथुरा शैली का विकास कनिष्क के शासन काल में हुआ था ।

Scroll to Top