Himalayas River in Hindi -हिमालय से निकलने वाली नदियाँ

Himalayas River in Hindi -हिमालय से निकलने वाली नदियाँ | Himalays River in Hindi -हिमालय से निकलने वाली नदियाँ | Himalayas River in Hindi | Himalayas River Hindi -हिमालय से निकलने वाली नदियाँ | Himalas River in Hindi -हिमालय से निकलने वाली नदियाँ | Himayas River in Hindi -हिमालय से निकलने वाली नदियाँ |

बरुन नदी अरुण नदी की एक सहायक है और वरुण नदी नेपाल में पाई जाती है नेपाल में कोसी नदी प्रणाली का हिस्सा है। नेपाल में ऐसी बहुत सी नदियां पाई जाती हैं जैसे कंकई नदी युबराज नदी , दुध कोशी, इम्मा खोला ,हांगू नदी,इंद्रवती नदी,बागमती नदी,कमला नदी,लखांदेई नदी बिस्नुमती नदी,गंधकी नदी (नारायणी) (काली गंडकी), बिनाई नदी,पूर्वी राप्ती नदी,त्रिशूलि नदी,सेटी गंधकी नदी,मार्शिआंगडी,बुद्ध गंधकी नदी |

Himalayas River in Hindi –हिमालय से निकलने वाली नदियाँ

हिमालय से निकलने वाली नदियाँ

No.-1. हिमालय से निकलने वाली नदियाँ बर्फ़ और ग्‍लेशियरों( हिमानी या हिमनद) के पिघलने से बनी हैं अत: इनमें पूरे वर्ष के दौरान निरन्‍तर प्रवाह बना रहता है।

No.-2. हिमालय की नदियों के बेसिन बहुत बड़े हैं एवं उनके जलग्रहण क्षेत्र सैकड़ों-हजारों वर्ग किमी. में फैले हैं।

No.-3. हिमालय की नदियों को तीन प्रमुख नदी-तंत्रों में विभाजित किया गया है।

No.-4. सिन्धु नदी-तंत्र, गंगा नदी-तंत्र तथा ब्रह्मपुत्र नदी-तंत्र।

No.-5. इन तीनों नदी-तंत्रों का विकास एक अत्यन्त विशाल नदी से हुआ, जिसे ‘शिवालिक’ या हिन्द-ब्रह्म नदी भी कहा जाता था।

No.-6. यह नदी ओसम से पंजाब तक बहती थी।

No.-7. प्लीस्टोसीन काल में जब ‘पोटवार पठार का उत्थान’ हुआ तो यह नदी छिन्न-भिन्न हो गई एवं वर्तमान तीन नदी तंत्रों में बंट गई। इस संबंध में भूगर्भ वैज्ञानिकों के मत एक नहीं है।

सिन्धु नदी-तंत्र

No.-1. इसके अन्तर्गत सिन्धु एवं उसकी सहायक नदियां सम्मिलित है।

No.-2. सिन्धु तिब्बत के मानसरोवर झील के निकट ‘चेमायुंगडुंग’ ग्लेशियर से निकलती है।

No.-3. यह 2,880 किमी. लम्बी है।

No.-4. भारत में इसकी लम्बाई 1,114 किमी.(पाक अधिकृत सहित, केवल भारत में 709 किमी.) है।

No.-5. इसका जल संग्रहण क्षेत्र 11.65 लाख वर्ग किमी. है।

सिन्धु की सहायक नदियां

No.-1. दायीं ओर से मिलने वाली – श्योक, काबुल, कुर्रम, गोमल।

No.-2. बायीं ओर से मिलने वाली – सतलज, व्यास, रावी, चिनाब एवं झेलम की संयुक्त धारा(मिठनकोट के पास) तथा जास्कर, स्यांग, शिगार, गिलगिट।

No.-3. 1960 में हुए ‘सिन्धु जल समझौते’ के अन्तर्गत भारत सिन्धु व उसकी सहायक नदियों में झेलम और चेनाब का 20 प्रतिशत जल उपयोग कर सकता है जबकि सतलज, रावी के 80 प्रतिशत जल का उपयोग कर सकता है।

No.-4. सिन्धु नदी भारत से होकर तत्‍पश्‍चात् पाकिस्तान से हो कर और अंतत: कराची के निकट अरब सागर में मिल जाती है।

Himalayas River in Hindi 

झेलम नदी

No.-1. यह पीरपंजाल पर्वत की श्रेणी में शेषनाग झील के पास वेरीनाग झरने से निकलती है और बहती हुई वूलर झील में मिलती है और अंत में चिनाब नदी में मिल जाती है।

No.-2. इसकी सहायक नदी किशनगंगा है, जिसे पाकिस्तान में नीलम कहा जाता है।

No.-3. श्रीनगर इसी नदी के किनारे बसा है।

No.-4. श्रीनगर में इस पर ‘शिकार’ या ‘बजरे’ अधिक चलाए जाते हैं।

चिनाब नदी

No.-1. यह नदी सिन्धु नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी है।

No.-2. जो हिमाचल प्रदेश में चन्द्रभागा कहलाती है।

No.-3. यह नदी लाहुल में बाड़ालाचा दर्रे के दोनों ओर से चन्द्र और भागा नामक दो नदियों के रूप में निकलती है।

रावी नदी

No.-1. इस नदी का उद्गम स्थल हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में रोहतांग दर्रे के समीप है।

No.-2. यह पंजाब की पांच नदियों में सबसे छोटी है।

Himalayas River  Hindi –हिमालय से निकलने वाली नदियाँ

व्यास

No.-1. इसका उद्गम स्थल भी हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में रोहतांग दर्रे के निकट व्यासकुंड है।

No.-2. यह सतलज की सहायक नदी है।

No.-3. यह कपूरथला के निकट ‘हरिके’ नामक स्थान पर सिन्धु से मिल जाती है।

No.-4. यह पुर्ण रूप से भारत में(460-470 किमी.) बहती है।

सतलज नदी

No.-1. यह तिब्बत में मानसरोवर के निकट राकस ताल से निकलती है और भारत में शिपकीला दर्रे के पास से प्रवेश करती है।

No.-2. भाखड़ा नांगल बांध सतलज नदी पर बनाया गया है।

गंगा नदी

No.-1. उत्तराखण्ड के उत्तरकाशी जिले में गोमुख के निकट गंगोत्री हिमनद से भागीरथी के रूप में निकलकर देवप्रयाग में अलकनंदा एवं भागीरथी के संगम के बाद संयुक्त धारा गंगा नदी के नाम से जानी जाती है।

No.-2. इलाहाबाद के निकट गंगा से यमुना मिलती है जिसे संगम या प्रयाग कहा जाता है।

No.-3. प. बंगाल में गंगा दो धाराओं में बंट जाती है एक धारा हुगली नदी के रूप में अलग होती है जबकि मुख्यधारा भागीरथी के रूप में आगे बढ़ती है।

No.-4. ब्रह्मपुत्र नदी बांग्लादेश में जमुना के नाम से भागीरथी(गंगा) में मिलती है।

No.-5. इनकी संयुक्त धारा को पद्मा कहा जाता है।

No.-6. पद्मा नदी में बांग्लादेश में मेघना नदी मिलती है।

No.-7. बाद में गंगा एवं ब्रह्मपुत्र की संयुक्त धारा मेघना से मिलने के बाद मेघना के नाम से आगे बढ़ती है और छोटी-छोटी धाराओं में बंटने के बाद बंगाल की खाड़ी में गिरती है।

Himalayas River in Hindi 

 

No.-8.  गंगा-ब्रह्मपुत्र का डेल्टा विश्व का सबसे बड़ा डेल्टा माना जाता है।

No.-9. जिसका विस्तार हुगली और मेघना नदियों के बीच है।

No.-10. सुन्दरी वृक्ष की अधिकता के कारण इसे ‘सुन्दर वन डेल्टा’ कहा जाता है।

डेल्टा

No.-1. नदी जब सागर या झील में गिरती है तो वेग में कमी के कारण मुहाने पर उसके मलबे का निक्षेप होने लगता है जिससे वहां विशेष प्रकार के स्थल रूप का निर्माण होता है।

No.-2. इस स्थल रूप को डेल्टा कहते हैं।

No.-3. बांयी ओर मिलने वाली – गोमती, घाघरा, गण्डक, बूढ़ीगंगा, कोशी, महानंदा, ब्रह्मपुत्र।

No.-4. दांयी ओर मिलने वाली – यमुना, टोंस, सोन।

No.-5. उत्तराखंड के सबसे फेमस टूरिस्ट डेस्टिनेशन ऋषिकेश में गंगा नदी पर देश का पहला ग्लास फ्लोर ब्रिज बनाया जाएगा।

No.-6. लक्ष्मण झूला के बराबर में बनने वाले इस ब्रिज का फर्श मजबूत पारदर्शी कांच का होगा।

No.-7. 94 वर्षों से ऋषिकेश की पहचान बने लक्ष्मण झूला को सुरक्षा कारणों से जुलाई 2019 में बंद कर दिया गया था।

यमुना नदी

No.-1. यह गंगा की सबसे लम्बी(1,370 किमी.) सहायक नदी है।

No.-2. यह बंदरपूंछ श्रेणी पर स्थित यमुनोत्री हिमनद से निकलती है।

No.-3. इसकी प्रमुख सहायक नदियां हिंडन, ऋषि गंगा, चंबल, बेतवा, केन एवं सिंध है।

Himalayas River-हिमालय से निकलने वाली नदियाँ

रामगंगा नदी

No.-1. यह नैनीताल(गैरसेण के निकट गढ़वाल की पहाड़ीयां) से निकलकर कन्नौज के समीप गंगा में मिलती है।

गोमती

No.-1. यह उत्तरप्रदेश के पीलीभीत जनपद से निकलती है एवं गाजीपुर के निकट गंगा में मिलती है।

No.-2. किनारे बसे शहर – लखनऊ, जौनपुर व गाजीपुर।

घाघरा(सरयु) नदी

No.-1. यह नेपाल के मपसा तुंग हिमानी से निकलती है एवं बिहार के छपरा के निकट गंगा में मिलती है।

No.-2. सहायक नदियां – राप्ती एवं शारदा।

No.-3. किनारे बसे शहर – अयोध्या, फैजाबाद, बलिया।

गण्डक नदी

No.-1. नेपाल में शालिग्रामी नदी नाम से जानी जाती है।

No.-2. भारत में पटना के निकट गंगा नदी में मिलती है।

कोसी नदी

No.-1. 7 धाराओं से मुख्य धारा अरूण नाम से माउण्ट एवरेस्ट के पास गोसाईथान चोटी से निकलती है।

No.-2. भागलपुर जनपद में गंगा नदी में मिलती है।

No.-3. बार-बार अपना रास्ता बदलने एवं बाढ़ लाने के कारण यह नदी बिहार का शोक कहलाती है।

हुगली नदी

No.-1. प. बंगाल में गंगा की वितरिका के रूप में इसका उद्गम होता है तथा बंगाल की खाड़ी में गिरती है।

तमसा(दक्षिणी टोंस) नदी

No.-1. कैमूर की पहाड़ीयों से निकलकर इलाहबाद से आगे गंगा नदी में मिलती है।

सोन नदी

No.-1. अमरकंटक की पहाडि़यों से निकलकर पटना से पहले गंगा नदी में मिलती है।

Himalys River in Hindi –हिमालय से निकलने वाली नदियाँ

यमुना की सहायक नदियां

चम्बल

No.-1. चम्बल मध्यप्रदेश के मऊ(इन्दौर) के समीप स्थित जानापाव पहाड़ी से निकलती है एवं इटावा के समीप यमुना नदी में मिलती है।

No.-2. सहायक नदियां – बनास, पार्वती, कालीसिंध एवं क्षिप्रा।

सिंध

No.-1. यह गुना जिले के सिरोंज तहसील के पास से निकलती है।

बेतवानदी

No.-1. यह मध्यप्रदेश के रायसेन जिले में विन्ध्य पर्वत माला से निकलती है।

No.-2. हमीरपुर के निकट यमुना नदी में मिलती है।

केन नदी

No.-1. यह मध्यप्रदेश के सतना जिले में कैमूर की पहाड़ी से निकलती है एवं बांदा के निकट यमुना में मिल जाती है।

No.-2. चम्बल की सहायक नदियां

बनास

No.-1. बनास अरावली श्रेणी की खमनौर पहाड़ीयों से निकलती है एवं चंबल नदी में मिल जाती है।

 

Scroll to Top
Scroll to Top