Bhartiye thal sena diwas kab manaya jata hai

Bhartiye thal sena diwas kab manaya jata hai

Bhartiye thal sena diwas kab manaya jata hai | Bhartiye tha sena diwas kab manaya jata hai | Bhartiye thal sena diwa kab manaya jata hai | Bhartiye thal sen diwas kab manaya jata hai | Bhartiye thal sena dias kab manaya jata hai | Bhartiye thal sena diwas kb manaya jata hai | Bhartiye thal sena diwas kab manaya jata | Bhrtiye thal sena diwas kab manaya jata hai |

15 जनवरी का दिन भारत के लिए अहम दिन होता है। आज के दिन को हर साल भारतीय सेना दिवस के तौर पर मनाया जाता है। 15 जनवरी भारत के गौरव को बढ़ाने और सीमा की सुरक्षा करने वाले जवानों के सम्मान का दिन होता है। इस साल भारत का 74 वां सेना दिवस मनाया जा रहा है। 15 जनवरी को नई दिल्ली और सभी सेना मुख्यालयों पर सैन्य परेडों, सैन्य प्रदर्शनियों व अन्य कार्यक्रमों का आयोजन होता है। इस मौके पर देश थल सेना की वीरता, उनके शौर्य और कुर्बानियों को याद करता है।

Bhartiye thal sena diwas kab manaya jata hai

No.-1.  भारतीय थल सेना दिवस मनाया जाता है?

  1. a) 8 अगस्त
  2. a) 15 जनवरी
  3. a) 9 अप्रैल
  4. a) 10 मार्च

उतर – 15 जनवरी

भारत में प्रत्येक वर्ष 15 जनवरी को भारतीय सेना दिवस मनाया जाता है।।

No.-1.  15 जनवरी को सेना दिवस’ के रूप में मनाया जाता है, जिस दिन जनरल केएम करियप्पा (बाद में फील्ड मार्शल) ने 1949 में अंतिम ब्रिटिश कमांडर-इन-चीफ जनरल सर एफआरआर बुचर से सेना की कमान संभाली थी।

केएम करियप्पा स्वतंत्रता के बाद भारतीय सेना के पहले कमांडर-इन-चीफ बने ।

No.-2.   करिअप्पा ने 1947 के भारत-पाक युद्ध में भारतीय सेना की कमान संभाली।

उन्होंने जनरल सर फ्रांसिस रॉबर्ट रॉय बुचर से पदभार संभाला जो हमारे देश की सेना के अंतिम अंग्रेजी कमांडर थे।

No.-1.   भारत में अंग्रेजों के खिलाफ लड़ने के लिए भारतीय राष्ट्रीय सेना का गठन किया गया था।

भारतीय राष्ट्रीय सेना का गठन पहली बार 17 फरवरी 1942 को हुआ था।

भारतीय राष्ट्रीय सेना का गठन कैप्टन मोहन सिंह और सुभाष चंद्र बोस के नेतृत्व में हुआ था।

Bhartiye thal sena diwas kab manaya 

No.-3.   आईएनए के पास “झांसी रेजिमेंट की रानी” नामक एक अखिल महिला रेजिमेंट भी थी।

भारतीय राष्ट्रीय सेना ने जनवरी-फरवरी 1944 में बर्मा के अराकान में और मार्च 1944 में मणिपुर के इंफाल में द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान दो सैन्य मुठभेड़ों में भाग लिया।

भारतीय राष्ट्रीय सेना द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान दक्षिण पूर्व एशिया में 1 सितंबर 1942 को भारतीय सहयोगियों और इंपीरियल जापान द्वारा गठित एक सशस्त्र बल थी।

Scroll to Top