Ashok ke shilalekho ko padhne wala pahla foreigner kon tha

Ashok ke shilalekho ko padhne wala pahla foreigner kon tha

Ashok ke shilalekho ko padhne wala pahla foreigner kon tha | Ashok k shilalekho ko padhne wala pahla foreigner | Ashok ke shilalekho ko padhne wala pahla foreigner kon | Ashok ke shilaleho ko padhne wala phla foreigner kon tha | Ashok ke shilalekho ko padhne wala pahla forigner kon tha |

Ashok ke shilalekho ko padhne wala pahla foreigner kon tha

मौर्य राजवंश या मौर्य साम्राज्य (ल. 322–185 ई.पू), प्राचीन भारत का एक शक्तिशाली राजवंश था। मौर्य राजवंश ने 137 वर्ष भारत में राज्य किया। इसकी स्थापना का श्रेय चन्द्रगुप्त मौर्य और उसके मंत्री चाणक्य को दिया जाता है। यह साम्राज्य पूर्व में मगध राज्य में गंगा नदी के मैदानों (आज का बिहार एवं बंगाल) से शुरु हुआ। इसकी राजधानी पाटलिपुत्र (आज के पटना शहर के पास) थी।

Que.-1. अशोक के शिलालेखों को पढ़ने वाला प्रथम अंग्रेज कौन था ?

Ans. अशोक के अभिलेख पढ़ने में सबसे पहली सफलता 1837 ईस्वी में जेम्स प्रिसेप को हुई ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top